नवाब मलिक गिरफ्तार, आठ दिन तक ED की रिमांड में रहेंगे मलिक,

रमाकांत वर्मा
ब्यूरो रिपोर्ट

नई दिल्ली।

महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक की धन शोधन के एक मामले प्रवर्तन निदेशालय ने आज गिरफ्तार किया। इससे पहले ईडी की टीम ने एनसीपी नेता से लंबी पूछताछ की थी। एनसीपी नेता और महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक को प्रवर्तन निदेशालय कार्यालय से बाहर लाया गया और उन्हें मेडिकल जांच के लिए ले जाया गया। फिर आरोपी को पीएमएलए कोर्ट में पेश किया गया। जहां ईडी की तरफ से नवाब मलिक की 14 दिनों की रिमांड मांगी गई थी। कोर्ट ने 8 दिन के लिए नवाब मलिक को ईडी की रिमांड पर भेजा है। मलिक को 3 मार्च तक प्रवर्तन निदेशालय की हिरासत में रहेंगे।

महाराष्ट्र सरकार में मंत्री छगन भुजबल ने कहा कि नवाब मलिक को ईडी ने गलत तरह से गिरफ़्तार किया है। कोर्ट में कई सालों तक 1992 बम धमाका मामला चला जिसमें बहुत लोगों को फांसी और सज़ा हुई थी। उस मामले में नवाब मलिक का नाम कहीं नहीं आया था। इसके विरोध में कल मंत्रालय के पास स्थित गांधी जी के पुतले के पास हमारे मंत्री और परसों हमारे कार्यकर्ता पूरे तालुका में प्रदर्शन करेंगें। नवाब मलिक ने कुछ गलत नहीं किया है इसलिए उनका इस्तीफा नहीं लिया जाएगा। एमवीए की सरकार गिराने के लिए केंद्र सरकार ऐसी हरकतें कर रही है।

धन शोधन के मामले में महाराष्ट्र सरकार में मंत्री नवाब मलिक से प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की पूछताछ को लेकर राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ने बुधवार को भारतीय जनता पार्टी पर निशाना साधा और कहा कि यह ‘सत्ता के दुरुपयोग’ और उनकी आवाज को दबाने का और एक उदाहरण है क्योंकि उन्होंने कुछ लोगों की गलतियां उजागर की थीं। राकांपा प्रमुख शरद पवार ने कहा कि चूंकि मलिक ‘साफ बोलते’ है ऐसे में पार्टी को उनके खिलाफ कार्रवाई किए जाने का अंदेशा था। उनका कहना है कि राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों को चुप कराने के प्रयासों के खिलाफ सबको साथ मिलकर लड़ना होगा।

भाजपा का कहना है कि ईडी की कार्रवाई को ‘बदले की राजनीति’ नहीं कहा जाना चाहिए और अगर सत्तारूढ़ गठबंधन के नेताओं को यह सत्ता का दुरुपयोग लगता है तो वे अदालत जा सकते हैं। विपक्षी पार्टी (भाजपा) ने कहा कि गिरफ्तारी के बाद मलिक को कैबिनेट मंत्री बने रहने का कोई अधिकार नहीं है और उन्हें मंत्रिपद से इस्तीफा दे देना चाहिए। केंद्रीय मंत्री रावसाहब दानवे ने कहा कि अगर इस सरकार(महाराष्ट्र सरकार) को लगता है कि कोई गुनहगार मंत्री नहीं रहना चाहिए तो उन्हें नवाब मलिक से तुरंत इस्तीफा लेना चाहिए। एनसीपी  नवाब मलिक का समर्थन करके उनका नहीं दाऊद इब्राहिम गैंग का समर्थन कर रही है। नवाब मलिक के कार्यालय ने ट्वीट में बताया है कि ईडी के अधिकारी आज सुबह उनके (मलिक) आवास पर आए और उनके वाहन में जांच एजेंसी के कार्यालय तक गए। ट्वीट में यह कहा गया है कि मलिक ‘‘ना डरेंगे, ना झुकेंगे।’’

Leave a Reply

Your email address will not be published.